Enquiry Now
Ganpati Jyotish | कुंडली मिलान
16816
post-template-default,single,single-post,postid-16816,single-format-standard,theme-bridge,qode-quick-links-1.0,woocommerce-no-js,ajax_fade,page_not_loaded,,paspartu_enabled,hide_top_bar_on_mobile_header,columns-3,qode-child-theme-ver-1.0.0,qode-theme-ver-11.1,qode-theme-bridge,wpb-js-composer js-comp-ver-5.1.1,vc_responsive
 

कुंडली मिलान

कुंडली मिलान

नाड़ी दोष क्यों बनता है विवाह में रुकावट ?

हिन्दू धर्म में मनुष्य के जन्म से लेकर उसकी मृत्यु तक सोलह प्रकार के संस्कार किये जाते है। उन्ही संस्कारों में से सबसे महत्वपूर्ण है विवाह ( पाणिग्रहण संस्कार ) जिसमें लड़का और लड़की अपने जीवन भर के लिए एक दूसरे को चुनते है। इस पाणिग्रहण संस्कार के पूर्व कुण्डली का मिलान किया जाता है, यह मिलान तभी ठीक माना जाता है जब कि कुण्डली के 50 प्रतिशत गुण मिलान कर रहे हो अर्थात कुण्डली मिलान के कुल गुण 36 होते है और यदि इन 36 में से 18 गुण मिल रहे होते है तो लड़के और लड़की को विवाह की स्वीकृति मिल जाती है। परंतु श्रेष्ठ मेल के लिए 26-27 गुणों का मेल आवश्यक है । कुण्डली के मिलान में कुछ दोष भी होते है जैसे नाड़ी दोष, गण दोष, भकूट दोष इत्यादि । इनमें से एक नाडी दोष के बारे में विस्तार से जानेंगे ।
गुण मिलान करते समय यदि वर और वधू की नाड़ी अलग-अलग हो तो उन्हें नाड़ी मिलान के 8 में से 8 अंक प्राप्त होते हैं, जैसे कि वर की आदि नाड़ी तथा वधू की नाड़ी मध्य अथवा अंत। किन्तु यदि वर और वधू की नाड़ी एक ही हो तो उन्हें नाड़ी मिलान के 8 में से 0 अंक प्राप्त होते हैं तथा इसे नाड़ी दोष का नाम दिया जाता है।
नाड़ी दोष को कुण्डली के सबसे खराब दोषों में से अधिक खराब दोष माना जाता है और ज्योतिष शास्त्र में भी कहा गया है कि कुंडली मिलान में नाड़ी दोष बनने से निर्धनता आना, संतान न हो और वर अथवा वधू दोनों में से एक अथवा दोनों की मृत्यु हो जाना जैसी भारी विपत्तियों का सामना करना पड़ सकता है
जन्म कुण्डली मे तीन प्रकार के नाड़ी दोष बताएं गए है, पहली होती है आदि नाड़ी, दूसरी मध्या नाड़ी और तीसरी अन्त्य नाड़ी । इन तीनों नाड़ियों के अपने-अपने अलग प्रभाव होते है। जब जन्म कुण्डली में आदि नामक नाड़ी दोष होता है, तो वर-वधू में तलाक या फिर अलगाव की स्थिति बनती है। मध्या नाड़ी होने पर दोनों के बीच मृत्यु तुल्य कष्ट होने की संभावना बनती है और अन्त्य नाड़ी होने पर किसी न किसी की मौत की शंका तक होने के संकेत मिलते है।

कब नही लगता है नाड़ी दोष –
• यदि लड़का-लड़की दोनों का जन्म एक ही नक्षत्र के अलग-अलग चरणो में हुआ हो तो दोनों की नाड़ी एक होने पर भी दोष नहीं माना जाता है।
• यदि दोनो की जन्म राशि एक हो और नक्षत्र अलग-अलग हों तो वर-वधू की नाड़ी एक होने के पश्चात भी नाड़ी दोष नही माना जाता है।
• वर-वधू का जन्म नक्षत्र एक हो लेकिन जन्म राशियाँ अलग-अलग हो तो भी नाड़ी दोष नही माना जाता है।

नाड़ी दोष के उपाय – शास्त्रों के अनुसार अगर कुण्डली मिलान में नाड़ी दोष हो तो विधि विधान के अनुसार दान पुण्य करें और महामृत्युंजय जाप अवश्य कराएं ।

.#acharyaraj #Astrologer #jeewanmantra #ganpatijyotish #गणपति
हमारे विशेषज्ञों से बात करें – अच्छे परिणाम, सही संचार और दशकों का अभ्यास अब आपको सिर्फ एक ही मंच पर यहाँ मिलता है l आप कॉल करके हमारे विशेषज्ञों से अपने लिए अच्छे उपाय प्राप्त कर सकते है। आपकी हर समस्या का समाधान और उसके उपाय आप अब आसानी से प्राप्त कर सकते है। आपका जन्म समय कैसे तय करता है , आपका भविष्य यदि आप अपने जीवन में किसी भी प्रकार की समस्याओ का सामना कर रहे है, तो आप यहाँ साझा कर सकते है :-http://bit.ly/2EYcxie
Free Prediction Call Now: 8178089828. or whatsapp: 9958104566
linkedin.com/in/ganpati-jyotish-560b26188/
Facebook.com/Ganpatijyotishofficial/
twitter.com/SansthanJyotish
instagram.com/06ganpatijyotishsansthan/
https://g.page/Ganpatijyotishofficial

 

 

Spread the love
No Comments

Post A Comment