Enquiry Now
Ganpati Jyotish | व्रत
15715
post-template-default,single,single-post,postid-15715,single-format-standard,theme-bridge,qode-quick-links-1.0,woocommerce-no-js,ajax_fade,page_not_loaded,,paspartu_enabled,columns-3,qode-child-theme-ver-1.0.0,qode-theme-ver-11.1,qode-theme-bridge,wpb-js-composer js-comp-ver-5.1.1,vc_responsive
 

व्रत

व्रत

गुरुवार, 17 अक्टूबर को महिलाओं का महापर्व करवा चौथ है। इस तिथि पर महिलाएं अपने पति के सौभाग्य, अच्छे स्वास्थ्य और लंबी उम्र के लिए व्रत करती हैं। ये व्रत निर्जला होता है यानी इस दिन महिलाएं पानी भी नहीं पीती हैं। चतुर्थी पर चौथ माता की पूजा की जाती है। गणपति ज्योतिष संस्थान (आचार्य राज कुमार ) के अनुसार रात में चौथा माता की पूजा की जाती है और चंद्रोदय के बाद चंद्र को अर्घ्य दिया जाता है। इसके बाद ही महिलाएं भोजन करती हैं। करवा चौथ माता की पूजा में उनकी कथा पढ़ना और सुनना भी जरूरी है। जानिए करवा चौथ की कथा…

• पुराने समय में इंद्रप्रस्थ में वेद शर्मा नामक एक विद्वान ब्राह्मण रहता था। उसकी पत्नी का लीलावती था। उसके सात पुत्र और वीरावती नामक एक पुत्री थी। युवा होने पर वीरावती का विवाह करा दिया गया। इसके बाद जब कार्तिक कृष्ण चतुर्थी आई तो वीरावती ने अपनी भाभियों के साथ करवा चौथ का व्रत रखा, लेकिन भूख-प्यास से वह चंद्रोदय के पूर्व ही बेहोश हो गई। बहन को बेहोश देखकर सातों भाई परेशान हो गए।

• सभी भाइयों ने बहन के लिए पेड़ के पीछे से जलती मशाल का उजाला दिखाकर बहन को होश में लाकर चंद्रोदय निकलने की सूचना दी। वीरावती ने भाइयों की बात मानकर विधिपूर्वक अर्घ्य दिया और भोजन कर लिया। ऐसा करने से कुछ समय बाद ही उसके पति की मृत्यु हो गई।
• अपने पति के मृत्यु के बाद वीरावती ने दुखी होकर अन्न-जल का त्याग कर दिया। उसी रात को इंद्राणी पृथ्वी पर आई। ब्राह्मण पुत्री ने उनसे अपने दुख का कारण पूछा। इंद्राणी ने बताया कि तुमने अपने पिता के घर पर करवा चौथ का व्रत किया था, लेकिन वास्तविक चंद्रोदय के होने से पहले ही अर्घ्य देकर भोजन कर लिया, इसीलिए तुम्हारा पति मर गया।

• अब उसे पुनर्जीवित करने के लिए विधिपूर्वक करवा चौथ का व्रत करो। मैं उस व्रत के ही पुण्य प्रभाव से तुम्हारे पति को जीवित करूंगी।
• वीरावती ने बारह मास की चौथ सहित करवाचौथ का व्रत पूर्ण विधि-विधानानुसार किया। इससे प्रसन्न होकर इंद्राणी ने उसके पति को जीवनदान दिया। इसके बाद उनका वैवाहिक जीवन सुखी हो गया। वीरावती को पुत्र, धन, धान्य और पति की दीर्घायु का लाभ मिला।

Please follow and like us:
error0
5 Comments
  • Sanjay arora
    Posted at 07:37h, 24 July Reply

    Mai aap ko parnam karta hu kya aap muje milne ka time bataye kya ye sewa Free hogi

    • Ganesh
      Posted at 09:36h, 25 July Reply

      Call Now 7840861836

    • Ganesh
      Posted at 00:19h, 31 July Reply

      Call On 7428930014

  • Punit Mittal
    Posted at 21:29h, 08 August Reply

    Mera karobar Hoga yaah service hi rahegi aur Mari shadi kab hogi

    • Ganesh
      Posted at 06:04h, 09 August Reply

      Call Now 7840861836

Post A Comment