Enquiry Now
Ganpati Jyotish | मंगल दोष
17137
post-template-default,single,single-post,postid-17137,single-format-standard,theme-bridge,qode-quick-links-1.0,woocommerce-no-js,ajax_fade,page_not_loaded,,paspartu_enabled,hide_top_bar_on_mobile_header,columns-3,qode-child-theme-ver-1.0.0,qode-theme-ver-11.1,qode-theme-bridge,wpb-js-composer js-comp-ver-5.1.1,vc_responsive
 

मंगल दोष

मंगल दोष

दूसरे भाव का मंगल आपके जीवन पर क्या प्रभाव डालता है ?

दूसरे भाव में मंगल का फल शुभ होता है परन्तु तब जब मंगल बलि अवस्था में हो। द्वितीय स्थान धन भाव (Wealth House) भी है। इस स्थान में मंगल आपको भौतिक उपलब्धियां प्रदान करता है। आप विद्वान गुणी और पारिवारिक संबन्धियों में प्रतिष्ठित होंगे। कमजोर मंगल इस भाव में आपको कलह प्रिय, निष्ठुर,मंद बुद्धिवाला अपव्ययी विषयी तथा अनैतिक कामप्रिय (Sex Lover) बनाता है। मंगल ग्रह को अत्यन्त गुणवान और भू-सम्पत्ति देने वाला कहा जाता है। मंगल में अहंकार और आत्माभिमान विशेष रूप से होता है। मंगल ग्रह के अधिदेवता स्कन्द या कार्त्तिकेय है और भगवान कार्तिकेय में भी आत्माभिमान कूट-कूट कर भरा हुआ है।

दूसरे भाव में स्थित मंगल वाला व्यक्ति सामान्यतः अपने माता पिता का बड़ा संतान होता है। इस  घर का का मंगल व्यक्ति को ससुराल से धन- दौलत दिलाने में समर्थ होता है। धन भाव का मंगल व्यक्ति को बहुत ही कडी मेहनत कराने के बाद सफलता  और धन समपत्ति दिलाता है। आपकी वाणी ओज, दम्भ और अहंकार से भरा होगा। आप अपने दोस्तों को धोखा दे सकते है आपके दोस्त अच्छे और बुरे दोनों तरह के हो सकते है। आपके मुख से गाली निकलना आम बात है। आप किसी न किसी व्यसन के शिकार हो सकते है। ापकिो  आपकी शैक्षणिक यात्रा में रुकावट आ सकती हैं। ऐसा जातक प्रायः दूसरों से लड़ाई-झगड़ा करते रहता है। इनका स्वभाव कभी कभी क्रूर हो जाता है।पिता और संतान (Father and Son) के स्वभाव में कठोरता हो सकता है। परन्तु कई बार यह भी देखा गया है की संतान पक्ष से निराशा भी हाथ लगती है। आपके बच्चे काफी ऊर्जावान और बडे पदों को प्राप्त करने वाले हो सकते हैं। प्रथम संतान के जन्म के समय कुछ परेशानी अवश्य ही होती है यदि आप पुरुष है तो पत्नी को एबॉर्शन (Abortion) जैसी घटना हो सकता है।

अतएव सतर्क रहे संतान के प्रति विवेक का परिचय दे। मित्रवत व्यवहार सुख प्रदान कर सकता है।

आपको आंखो (Eyes)  में चोट लग सकती है अथवा नेत्र दोष हो सकता है  पेट से सम्बन्धित बिमारी भी हो सकती है। कोई आपरेशन भी हो सकता है। संतान को लेकर आप मानसिक रूप से पीड़ित अथवा परेशान हो सकते हैं। दुर्घटना के कारण पैर में चोट लग सकता है खासकर यदि सिंह लग्न के जातक हो तो। कंधे और गले को लेकर कुछ परेशानी हो सकती है। आप कभी कभी बेहोशी के शिकार भी हो  सकते हैं। परन्तु मेरा अपना अनुभव ऐसा नहीं कहता है यहाँ मंगल धन प्रदान करता है परन्तु जातक को उतना धन सुख नहीं मिलता है जितना मिलना चाहिए परन्तु यह स्थिति भी तब होती है जब जातक धन का संचय करता है यदि जातक धन का संचय के साथ-साथ उसका सदुपयोग करता है दान पुण्य का काम करता है तो वह धन सुख भी प्राप्त करता है। धन स्थान से अष्टम स्थान पर दृष्टि होने से व्यक्ति पैतृक सम्पत्ति का सुख भोगता है। धन को लेकर कोई गुप्त काम करना तथा उसके कारण जेल जाने जैसे घटना होने की प्रबल सम्भावना होती है। इनके शत्रु भी होते है उससे परेशानी होती है परन्तु अंततः विजय इन्हे मिलती है।

#acharyaraj #Astrologer #jeewanmantra #ganpatijyotish #गणपति

हमारे विशेषज्ञों से बात करें – अच्छे परिणाम, सही संचार और दशकों का अभ्यास अब आपको सिर्फ एक ही मंच पर यहाँ मिलता है l आप कॉल करके हमारे विशेषज्ञों से अपने लिए अच्छे उपाय प्राप्त कर सकते है। आपकी हर समस्या का समाधान और उसके उपाय आप अब आसानी से प्राप्त कर सकते है। आपका जन्म समय कैसे तय करता है , आपका भविष्य यदि आप अपने जीवन में किसी भी प्रकार की समस्याओ का सामना कर रहे है, तो आप यहाँ साझा कर सकते है :-http://bit.ly/2EYcxie

Free Prediction Call Now: 8178089828. or whatsapp: 7840861836

linkedin.com/in/ganpati-jyotish-560b26188/

Facebook.com/Ganpatijyotishofficial/

twitter.com/SansthanJyotish/

instagram.com/06ganpatijyotishsansthan/

https://g.page/Ganpatijyotishofficial?gm/

 

Spread the love
No Comments

Post A Comment