Enquiry Now
Ganpati Jyotish | योग
17140
post-template-default,single,single-post,postid-17140,single-format-standard,theme-bridge,qode-quick-links-1.0,woocommerce-no-js,ajax_fade,page_not_loaded,,paspartu_enabled,hide_top_bar_on_mobile_header,columns-3,qode-child-theme-ver-1.0.0,qode-theme-ver-11.1,qode-theme-bridge,wpb-js-composer js-comp-ver-5.1.1,vc_responsive
 

योग

योग

19 जनवरी को अस्त होगा बृहस्पति, वसंत पंचमी तक नहीं हो सकेंगे शादी और गृह प्रवेश जैसे तमाम मांगलिक काम

19 जनवरी को गुरु ग्रह अस्त हो जाएगा। ज्योतिषीयों के मुताबिक, इस ग्रह के अस्त हो जाने से शादियां, गृह प्रवेश जैसे तमाम मांगलिक कामों पर रोक लग जाएगी। ज्योतिषीय गणना के अनुसार बृहस्पति ग्रह जब सूर्य के आगे या पीछे करीब 11 डिग्री पर होता है तो ये अस्त माना जाता है। देवगरू बृहस्पति धर्म और मांगलिक कार्यों का कारक ग्रह है। इसलिए गुरू तारा अस्त होने पर मांगलिक कार्य नहीं किए जाते हैं।

इस बार 19 जनवरी से 16 फरवरी तक गुरु तारा अस्त रहेगा। इसलिए इन 28 दिनों तक मांगलिक कामों के लिए मुहूर्त नहीं रहेंगे। हालांकि 16 फरवरी को गुरु के उदय होने के कुछ ही मिनटों बाद शुक्र अस्त हो जाएगा। इस कारण अप्रैल से शुभ कामों की शुरुआत होगी। यही वजह है कि 18 जनवरी के बाद साल का दूसरा विवाह मुहूर्त 22 अप्रैल को रहेगा।

सूर्य के राशि परिवर्तन से होगा गुरु तारा अस्त
वास्तु विशेषज्ञ , लालकिताब और वैदिक ज्योतिषाचार्य राज कुमार का कहना है कि 14 जनवरी को सुबह करीब साढ़े 8 बजे सूर्य मकर राशि में आया। इस राशि में पहले से ही बृहस्पति स्थित है। सूर्य के राशि बदलने के 4 दिन बाद ही यानी 19 जनवरी को बृहस्पति अस्त हो जाएंगे। सूर्य 12 फरवरी को बृहस्पति वाली राशि छोड़कर कुंभ में प्रवेश कर जाएगा। इसके 4 दिन बाद यानी बसंत पंचमी पर बृहस्पति ग्रह का उदय हो जाएगा।

सूर्यगुरु के योग में मांगलिक कामों की मनाही
वैदिक ज्योतिष में गुरु को शुभ कामों का प्रतिनिधि ग्रह माना गया है। वास्तु विशेषज्ञ , लालकिताब और वैदिक ज्योतिषाचार्य राज कुमार के मुताबिक सूर्य जब गुरु की राशि धनु और मीन में आता है तो इससे गुरु का प्रभाव कम हो जाता है। वहीं, शुभ कामों के दौरान गुरु का प्रभावशाली होना जरूरी माना गया है। इसलिए इस एक महीने के दौरान शुभ कामों की मनाही होती है। खासतौर से इस समय शादियां तो बिल्कुल नहीं की जाती। क्योंकि विवाह के लिए सूर्य और गुरु दोनों की स्थिति मजबूत होनी चाहिए। साथ ही ज्योतिषीयों के मुताबिक, लगभग 12 साल में एकबार जब बृहस्पति ग्रह सूर्य की राशि यानी सिंह में आता है तो भी मांगलिक काम नहीं करने चाहिए।

इस साल शादी के 51 मुहूर्त, मई में सबसे ज्यादा 15 दिन
ज्योतिषाचार्य राज कुमार के मुताबिक, इस साल शादी के लिए 18 जनवरी को पहला विवाह मुहूर्त है। इसके बाद 22 अप्रैल से मुहूर्त रहेंगे। अप्रैल में 8, मई में 15, जून में 9 और जुलाई में 5 दिन शादियां हो सकेंगी। इसके बाद देवशयन होने से अगले 4 महीने के बाद नवंबर में शादी और मांगलिक कामों की शुरुआत हो सकेगी। इस साल नवंबर में 7 और दिसंबर में 6 दिन विवाह के मुहूर्त रहेंगे।

#acharyaraj #Astrologer #jeewanmantra #ganpatijyotish #गणपति

हमारे विशेषज्ञों से बात करें – अच्छे परिणाम, सही संचार और दशकों का अभ्यास अब आपको सिर्फ एक ही मंच पर यहाँ मिलता है l आप कॉल करके हमारे विशेषज्ञों से अपने लिए अच्छे उपाय प्राप्त कर सकते है। आपकी हर समस्या का समाधान और उसके उपाय आप अब आसानी से प्राप्त कर सकते है। आपका जन्म समय कैसे तय करता है , आपका भविष्य यदि आप अपने जीवन में किसी भी प्रकार की समस्याओ का सामना कर रहे है, तो आप यहाँ साझा कर सकते है :-http://bit.ly/2EYcxie

Free Prediction Call Now: 8178089828. or whatsapp: 7840861836

linkedin.com/in/ganpati-jyotish-560b26188/

Facebook.com/Ganpatijyotishofficial/

twitter.com/SansthanJyotish/

instagram.com/06ganpatijyotishsansthan/

https://g.page/Ganpatijyotishofficial?gm/

 

 

Spread the love
No Comments

Post A Comment