Enquiry Now
Ganpati Jyotish | पूजा विधी
15708
post-template-default,single,single-post,postid-15708,single-format-standard,theme-bridge,qode-quick-links-1.0,woocommerce-no-js,ajax_fade,page_not_loaded,,paspartu_enabled,hide_top_bar_on_mobile_header,columns-3,qode-child-theme-ver-1.0.0,qode-theme-ver-11.1,qode-theme-bridge,wpb-js-composer js-comp-ver-5.1.1,vc_responsive
 

पूजा विधी

पूजा विधी

गणपति ज्योतिष संस्थान के अनुसार आज पूजा के बाद भगवान को शयन करवाने की परंपरा, 15 नवंबर को योग निद्रा से जागेंगे श्रीहरी ?

मंगलवार, 20 जुलाई को आषाढ़ महीने के शुक्लपक्ष की एकादशी है। इसे देवशयनी एकादशी पर्व कहा जाता है। इस दिन से भगवान विष्णु चार महीने तक योग निद्रा में रहते हैं। इस एकादशी पर भगवान विष्णु की विशेष पूजा के बाद शयन करवाने की परंपरा है। साथ ही व्रत या उपवास रखा जाता है, भगवान विष्णु का अभिषेक किया जाता है और दान दिया जाता है।

अब 4 महीने बाद यानी 15 नवंबर को कार्तिक महीने के शुक्लपक्ष की एकादशी तिथि पर विशेष पूजा पाठ के साथ भगवान को जगाया जाएगा। इस दिन को देव प्रबोधिनी एकादशी कहा जाता है। भगवान विष्णु के जागने के बाद इस दिन से मांगलिक कामों की शुरुआत हो जाएगी।

वामन पुराण: 4 महीने पाताल में रहते हैं भगवान विष्णु
देवशयनी एकादशी वामन अवतार से जुड़ी है। दैत्यराज बलि ने इंद्र को परास्त कर स्वर्ग को अपने अधीन कर लिया। इससे सभी देवता और राजा बलि की माता अदिति दुखी हुई और अपने पुत्र के उद्धार के लिए भगवान विष्णु की आराधना कर वर मांगा। तब विष्णु ने वरदान दिया कि मैं आपके गर्भ से वामन अवतार लेकर देवराज इंद्र को पुनः स्वर्ग की सत्ता दूंगा और राजा बलि को पाताल का राज्य सौंप दूंगा।

राजा बलि के अश्वमेध यज्ञ में वामन देवता उपस्थित हुए। उनके इस अवतार को शुक्राचार्य समझ गए और बलि को सतर्क भी किया पर प्रभु की लीला अपरंपार है, वामन देवता ने दान में तीन पग भूमि मांगी। विष्णु ने वामन अवतार में अपने विराट स्वरूप से उसी समय एक पग में भू-मंडल, दूसरे से स्वर्गलोक और तीसरे पग नापते समय राजा बलि को पूछा कि इस दान में तो कमी है। इसे कहां रखूं।

प्रभु की लीला को देख राजा बलि ने कहा कि प्रभु अब तो मेरा मस्तक बचा है। यहीं रख दीजिए, जिससे वह रसातल पाताल चला गया और भगवान विष्णु ने वामन अवतार में उन्हें कहा कि दानियों में तुम्हे सदा याद रखा जाएगा और तुम कलियुग के अंत तक पाताल के राजा रहोगे। इसलिए राजा बलि ने भी प्रभु से वरदान मांगा की हे, प्रभु आप मेरे इस साम्राज्य की रक्षा के लिए मेरे साथ पाताल लोक की रक्षा करें। भगवान वामन ने उन्हें वरदान दिया। इसलिए भगवान विष्णु देवशयनी एकादशी से 4 मास तक पाताल लोक क्षीरसागर में योगनिद्रा पर रहकर उनके राज्य की रक्षा करते हैं।

देवशयनी एकादशी की पूजा विधि
सुबह जल्दी उठकर घर की सफाई करें फिर नहाएं। पूजा स्थान पर भगवान विष्णु की सोने, चांदी, तांबे या पीतल की मूर्ति स्थापित करें और भगवान की पूजा करें। भगवान विष्णु को पीला कपड़ा चढ़ाएं। व्रत की कथा सुनें उसके बाद आरती करें। फिर प्रसाद बांटकर ब्राह्मणों को भोजन कराएं और दक्षिणा दें।

एकादशी व्रतोपासना से जीवात्मा की शुद्धि होती है
एकादशी व्रत का उल्लेख पद्मपुराण, विष्णु पुराण में भी मिलता है। सनातन धर्म के अनुसार 1 वर्ष में 24 एकादशी होती है। धर्मशास्त्रों एवं पुराणोक्त ऋषि वचनों के अनुसार हर एकादशी के अलग-अलग नियम और फल हैं। फिर भी शास्त्रोक्त ढंग से एकादशी का व्रत एवं पारणा करने वाले व्रतकर्ता प्राणी के लिए चारों पुरुषार्थ धर्म, अर्थ, काम, मोक्ष सहज हो जाते हैं। हिंदू धर्म शास्त्रों और ऋषि परंपरा के अनुसार मानव योनी 84 लाख योनियों में सबसे बड़ी कर्म प्रधान योनी है। एकादशी व्रत को संकल्पपूर्वक पूर्ण करने और देवों के प्रति सच्ची निष्ठा रखने से जीवात्मा की शुद्धि होती है।

पेज को लाइक और शेयर करें |

#acharyarajj #ganpatijyotish #Namo #indiatv #politics #indianastrologer #lovemarriage #shriram #jaishriram #jaihanuman #radheradhe #radhekrishna #radhekrishnaworld #shrikrishna #harekrishna #jaishreehari #jaishreeram #radheshyam #geeta #bhagwatgita #kanhaji #prabhu #bhakti #dailydevotional #devotional #devotees #ramram #shrikrishna #bhajan #iamjayakishori #chitralekhaji #sanskartv #aasthatvchannel #shree_radhakrishna #shree_radhakrishn #devotion #devi #Sadhguru #ShriPitreshwarHanumanDham #JaiHanuman #PhotoEditingChallenge #postingchallenge #truelovechallenge #vishnu #ekadashi #devsayniekadashi

हमारे विशेषज्ञों से बात करें – अच्छे परिणाम, सही संचार और दशकों का अभ्यास अब आपको सिर्फ एक ही मंच पर यहाँ मिलता है  आप कॉल करके हमारे विशेषज्ञों से अपने लिए अच्छे उपाय प्राप्त कर सकते है। आपकी हर समस्या का समाधान और उसके उपाय आप अब आसानी से प्राप्त कर सकते है। आपका जन्म समय कैसे तय करता है , आपका भविष्य यदि आप अपने जीवन में किसी भी प्रकार की समस्याओ का सामना कर रहे है, तो आप यहाँ साझा कर सकते है :-http://bit.ly/2EYcxie

Free Prediction Call Now: 7428673714 Or WhatSapp: 7840861836

linkedin.com/in/ganpati-jyotish-560b26188/

Facebook.com/Ganpatijyotishofficial/

twitter.com/SansthanJyotish/

instagram.com/06ganpatijyotishsansthan/

https://g.page/Ganpatijyotishofficial?gm/

Spread the love
No Comments

Post A Comment